previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home International अशिक्षा और गरीबी के कारण देश के विकास में सबसे बड़ी बाधक...

अशिक्षा और गरीबी के कारण देश के विकास में सबसे बड़ी बाधक बन रही है बढ़ती आबादी,

Spread the love

राकेश कुमार- सब एडिट, बॉर्डर न्यूज़ मिरर। देश को जिन गम्भीर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उनमें जनसंख्या की विस्फोटक स्थिति है जो बहुत ही चिन्तनीय है।देश किसी क्षेत्र में प्रगति की हो या न की हो परन्तु जनसंख्या वृद्धि के मामले में हम विश्व के अनेक देशों से काफी आगे है। इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि 1947 में भारत की आबादी 34.20 करोड़ थी जो अब अनुमानत 1 अरब 30 करोड़ से ऊपर पहुंच गई है।

भारत में विश्व का 2.4 प्रतिशत भू भाग है जिसमें विश्व की लगभग 15 प्रतिशत आबादी निवास करती है। देश की जनसंख्या वृद्धि की स्थिति गहन चिन्ता का विषय बना हुआ है जिससे देश के समग्र सामाजिक एवं आर्थिक विकास पर गम्भीर प्रभाव पड़ रहा है।
चाहे अस्पताल हो या रेलवे स्टेशन, स्कूल हो या सस्ते गल्ले की दुकान हर जगह भीड़ ही भीड़ दिख रही है। सरकार जितनी भी व्यवस्थाएं उपलब्ध करा रही है सब कम होती जा रही है जिसके कारण न अस्पताल में आसानी से दवा मिल रही है न रेलवे में आरक्षण। बच्चों का स्कूल में प्रवेश बड़े ही भाग्यशाली लोगों को मिल पाता है। तीन आदमियों की क्षमता वाले मकान में 30-30 आदमी रहने के लिए बाध्य हो रहे हैं और इस सारी समस्या की जड़ है बढ़ती हुई जनसंख्या।

अपने देश में जनसंख्या वृद्धि को सीमित करने के लिए 1942 में राष्ट्रीय परिवार कल्याण कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया जिसके फलस्वरूप बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के कारण मृत्यु दर में तो कमी लाने में कुछ सफलता अवश्य मिली परन्तु जन्म दर कम कर पाने में असफलता ही हाथ लगी। जिसके कारण जनसंख्या वृद्धि का ग्राफ बहुत तेजी से ऊपर उठ रहा है। देश में जनसंख्या वृद्धि का प्रमुख कारण है अशिक्षा और गरीबी। ऐसा देखा गया है कि आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के यहां मनोरंजन के साधनों का अभाव होता है और मात्र पत्नी ही मनोरंजन का साधन होती है, दूसरा प्रमुख कारण है अशिक्षा। अपने देश का उदाहरण ले तो केरल में शिक्षा का प्रतिशत काफी अच्छा है और जन्म दर अपेक्षाकृत देश के अन्य प्रदेशों से कम है।

जनसंख्या वृद्धि के कारणों में अन्य प्रमुख कारण कम उम्र में विवाह होना भी है। कानून बनने के बाद बाल विवाहों में तो कुछ कमी अवश्य आई, परन्तु अभी तक पर्याप्त सुधार नहीं हुआ है। भारतीय समाज में लड़के की चाहत भी जनसंख्या वृद्धि के लिए काफी कुछ जिम्मेदार है। सरकार द्वारा चलाया जा रहा परिवार नियोजन अब परिवार कल्याण कार्यक्रम अभी भी जनता का कार्यक्रम नहीं बन पाया है इसे लोगों द्वारा मात्र सरकारी कार्यक्रम ही समझा जाता है। देश को जनसंख्या वृद्धि के विस्फोट से बचाना है तो हमें ऐसी योजनाएं बनानी होगी जो देश के आम लोगों को आर्थिक रूप से सम्पन्न बना सके साथ ही साक्षरता के लिए भी प्रयास करना होगा जिससे शिक्षा का प्रकाश सब तक पहुंच सके। परिवार कल्याण कार्यक्रम में ज्यादा से ज्यादा लोगो की भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी। इस कार्यक्रम में सामाजिक कार्यकर्ताओं, राजनीतिक दलों के नेताओं तथा साधु-सन्तों तथा धर्म गुरुओं की भी मदद लेनी होगी क्योंकि जनता उनकी बात का तेजी से अनुशरण करती है। बाल विवाह पर रोक लगाना भी जरूरी हो गया है। यदि जनसंख्या वृद्धि की गति को काबू में न किया गया तो जनसंख्या विस्फोट जनजीवन को तबाह कर देगा इसलिये समय पर सचेत हो जाना ही विश्व जनसंख्या दिवस की सार्थकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुज़फ़्फ़रपुर जेल में छापेमारी, जेल सुरक्षा में अब लगेंगे बीएमपी जवान

मुजफ्फरपुर। मुजफ्फरपुर ज़िले के डीएम प्रणव कुमार के नेतृत्व में बुधवार को यहां केंद्रीय कारा  में औचक निरीक्षण किया गया। इस क्रम में कारा के...

उद्योग मंत्री के निर्देश पर डीएम ने पेपरमील का किया निरीक्षण

सहरसा। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने बुधवार को बैजनाथपुर पेपर मील परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने बंद पड़े पेपर मील के भवन, औद्योगिक संरचना सहित...

महिषी के संजय सारथी ने भोजपुरी फिल्म में निभाई खलनायक की भूमिका

सहरसा। कोसी के लाल महिषी प्रखंड के लहुआर तेलहर निवासी संजय सारथी सिनेमा जगत में धमाल मचा रहें हैं। वे अब तक कई फिल्मो...

महिला दिवस पर आयोजित रक्तदान शिविर में महिलाएं करेगी रक्तदान

सहरसा। महिलाओ के सशक्तिकरण एवं उनके हितो के लिए समर्पित सामाजिक संस्था ' संगिनी उम्मीद की किरण ' आगामी 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला...

Recent Comments