previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home National China चीन को घेरने के लिए नौसेना का अंडमान-निकोबार में युद्धाभ्यास

चीन को घेरने के लिए नौसेना का अंडमान-निकोबार में युद्धाभ्यास

Spread the love
नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख की सीमा एलएसी पर चीन के साथ चल रहे सैन्य टकराव के बीच भारतीय नौसेना ने अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह मेें एक ड्रिल शुुरू करके चीन को समुद्री इलाके में घेरने का संदेेश दिया है। दरअसल अंडमान और निकोबार के इन्हीं रास्तों से चीन का अहम व्यापार होता है। भारतीय नौसेना ने यह युद्धाभ्यास उस समय शुरू किया है जब पहले से ही दो अमेरिकी सुपर एयरक्राफ्ट कैरियर यूएसएस निमित्ज और रोनाल्ड रीगन दक्षिण चीन सागर में चीन को घेरे हुए हैं।
भारतीय नौसेना अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अपनी सैन्य ताकत को और मजबूत बना रही है। चीन से जुड़ी समुद्री सीमा पर नौसेना की अंडमान-निकोबार कमांड (एएनसी) 2001 में बनाई गई थी। यह कमांड देश की पहली और इकलौती है, जो एक ही ऑपरेशनल कमांडर के अधीन जमीन, समुद्र और एयर फोर्स के साथ काम करती है। पूर्वी बेड़े के प्रमुख रियर एडमिरल संजय वात्स्यायन के नेतृत्व में यह युद्धाभ्यास अभ्यास एएनसी और पूर्वी नौसेना कमान के युद्धपोतों और विमानों के साथ किया जा रहा है। भारत की यह ड्रिल इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यहीं से चीन के कुछ समुद्री रास्ते गुजरते हैं जहां से चीन कई व्यापारिक गतिविधियों को अंजाम देता है। 
अंडमान-निकोबार द्वीप समूहों के पास ड्रिल कर रहे भारतीय युद्धपोतों में विध्वंसक, पेट्रोलिंग एयरक्राफ्ट और पनडुब्बी शामिल हैं। कुई युद्धपोतोंं को मलक्का स्ट्रेक के पास तैनात किया गया है जहां से चीन कई व्यापारिक जहाज गुजरते हैंं। मलक्का में ही भारत और जापान ने पिछले महीने संयुक्त युद्धाभ्यास किया था लेकिन वह सीमित स्तर का था। भारत ने चीन पर समुद्री सीमा में नजर रखने के लिए अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अपनी ताकत बढ़ानी शुरू कर दी है। इसीलिए नौसेना खुद को मजबूत बनाने के इरादे से 248 ‘अस्त्र’ मिसाइल और क्रूज मिसाइल प्रणाली खरीदने जा रही है जिसकी मंजूरी भी सरकार से मिल चुकी है। 
भारतीय नौसेना की यह ड्रिल चीन के लिए किसी डबल अटैक से कम नहीं है क्योंकि इससे पहले साउथ चाइना सी में अमेरिका के दो एयरक्राफ्ट कैरियर लड़ाकू ड्रिल कर रहे हैं। भारतीय विदेश मंत्रालय ने भी 16 जुुुलाई को अपने आधिकारिक बयान में दक्षिण चीन सागर को वैश्विक कॉमन्स का हिस्सा बताया है। यह पहली बार है जब भारत ने दक्षिण चीन सागर पर चीन के एकाधिकार को स्पष्ट रूप से चुनौती दी है। इस लिहाज से भी चीन से जुड़ी समुद्री सीमा पर भारतीय नौसेना का अंडमान-निकोबार द्वीप समूहों के पास युद्धाभ्यास अहम माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अरुण कुमार सिंह बने बिहार के मुख्य सचिव

पटना। बिहार के नए मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह होंगे। इस बाबत रविवार को सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से अधिसूचना जारी कर दी गई। जारी आदेश...

480 किलोग्राम गांजा सहित दो तस्कर चढ़े पुलिस के हत्थे

पूर्णिया। शराब और गांजा तस्कर आजकल तस्करी के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। बायसी थाना पुलिस ने रविवार को बायसी के दालकोला चेक पोस्ट पर...

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में हो रहा बिहार का सर्वांगीण विकास: संजय

मधुबनी| जिला मुख्यालय स्थित नगर परिषद विवाह भवन में रविवार को राज्य के दो मंत्रियों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया| जल संसाधन मंत्री...

वन एवं पर्यावरण मंत्री का भव्य नागरिक अभिनंदन

सहरसा। बिहार सरकार के जलवायु परिवर्तन पर्यावरण वन विभाग मंत्री नीरज कुमार सिंह बबलू का नागरिक अभिनंदन समारोह रविवार को भाजपा द्वारा सुपर मार्केट...

Recent Comments