previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home Bihar Begusarai तलाक देकर बेटी के साथ घर से भगा दी गई कसीरन, न्याय...

तलाक देकर बेटी के साथ घर से भगा दी गई कसीरन, न्याय के लिए भटक रही दर-दर

Spread the love
बेगूसराय। मुस्लिम महिलाओं के साथ तलाक के नाम पर होने वाले अत्याचार पर रोक लगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार जुलाई 2019 में तीन तलाक को गैरकानूनी घोषित कर दिया। इसका कड़ाई से पालन कराने के लिए दिशा-निर्देश जारी किया गया। लेकिन गिरिराज सिंह के संसदीय क्षेत्र बेगूसराय में तीन तलाक आज भी धड़ल्ले से जारी है।
हालत यह है कि मुस्लिम महिलाओं को उसके शौहर छोटी-छोटी बात पर ना केवल तलाक दे रहे हैं। बल्कि किराए का मकान लेकर रहने पर भी मारपीट की जाती है। इस्लाम में शराब हराम रहने के बावजूद तलाक दे चुका शौहर किराए के मकान में घुसकर तलाकशुदा पत्नी के साथ मारपीट करता है। उसे अपने बच्चों के साथ घर से बाहर निकाल कर दूसरे के दरवाजे पर सोने और मांग कर खाने को मजबूर करता है। अपने बच्ची के साथ वह न्याय के लिए दर-दर भटकती है, लेकिन कोई उसे न्याय नहीं दिला रहा है।
ऐसे ही एक महिला है कसीरन खातून मधुबनी जिला के लौकहा थाना क्षेत्र स्थित बलुआ बाजार निवासी मरहूम ऐनुल की पुत्री कसीरन खातून का निकाह 2012 में बेगूसराय जिला के लडुआरा निवासी मो. असफाक उर्फ गब्बर के पुत्र जावेद के साथ हुआ था। जूता-चप्पल बेचकर गुजारा करने वाला जावेद अपनी पत्नी का खूब ख्याल भी रखता था, दोनों के बीच प्यार की तालमेल अच्छी चल रही थी। चार साल पहले खुशी पैदा हुई। लेकिन पुत्री खुशी के पैदा होने के बाद कसीरन पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। उसके सास और भैंसुर ने घर में रहना मुश्किल कर दिया। मां-भाई के कहने पर शराब के नशे में चूर होकर जावेद रोज मारपीट करने लगा।

previous arrow
next arrow
Slider

बात काफी आगे बढ़ गई और पति ने एक साल में तीन बार तलाक बोलकर उसे अपनी जिंदगी से अलग कर दिया। किराए के मकान में रहने के दौरान जमकर मारपीट की गई। कई बार पंचायत हुई, लेकिन ससुराल के जनप्रतिनिधि हमेशा उसके पति के पक्ष में ही फैसला सुनाते रहे। थक हार कर उसने दस फरवरी को बेगूसराय के महिला थाना में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई। लेकिन उसकी कोई नहीं सुन रहा है, प्रताड़ना लगातार जारी रहने के बाद शुक्रवार को जब वो फिर महिला थाना गई, तो डांट कर भगा दिया गया।
कसीरन का कहना है कि उसके मां-बाप मर चुके हैं, भाई को कोई मतलब नहीं रहता है, पास में पैसा नहीं है। कितने दिन लोग अपने दरवाजे पर सोने देंगे, कितने दिन मांग कर मां-बेटी खाऊंगी, कोई तो मुझे न्याय दिलाएं। कसीरन ने बताया कि मुस्लिम महिला (विवाह पर अधिकारों का संरक्षण) अधिनियम 2019 के तहत तीन बार तालक बोलना अपराध माना गया है। पीड़ित महिला को अपने और आश्रित बच्चों के लिए पति से भरण-पोषण लेने का भी हक है।
तीन तलाक का जिक्र ना तो कुरान में कहीं है और ना ही हदीस में। कुरान और हदीस में भी तीन तलाक को गैर इस्लामिक कहा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 30 जुलाई 2019 को संसद से तीन तलाक विधेयक पास हो गया। राष्ट्रपति की सहमति के बाद तीन तलाक का विधयेक कानून बन गया। लेकिन, इसके बहाने आज भी महिलाओं का प्रताड़ना जारी है तथा पुलिस-प्रशासन सार्थक कार्रवाई नहीं कर रही है और हमारी जैसी महिलाएं जलालत झेल रही हैं।
previous arrow
next arrow
Slider

Most Popular

शराब माफियाओं ने किया पुलिस पर हमला, महिला की मौत से ग्रामीण आक्रोशित

सागर सूरज/ जितेश मोतिहारी/कोटवा। कोटवा थाना (Kotwa Police Station) क्षेत्र के एक गाँव में शराब को लेकर प्राप्त सूचना के बाद छापेमारी (Raid) करने गयी...

कोरोना जैसी महामारी के बीच राजनीति नहीं होनी चाहिए: उपेन्द्र कुशवाहा

पटना। बिहार विधानपरिषद सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने संजय जयसवाल के बयान पर बुधवार को पलटवार करते हुए कहा कि कोरोना...

‘मैं कटिहार हूं’ के सातवें एपिसोड को उप मुख्यमंत्री ने किया रिलीज

पटना/कटिहार। बिहार के उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद (DUPY CM TARKISHOR PRASAD) ने कटिहार (KATIHAR) दौरे के दूसरे दिन एक कार्यक्रम में जिले के धार्मिक,...

एसडीएम ने एनएच पर दुकान लगानेवालों का दुकान स्थान्तरित कराया

बगहा। बगहा नगर परिषद स्थित राष्ट्रीय पथ-727 पर ठेला या फुटपाथ पर दुकान लगाकर फल और सब्जी आदि बेचने वाले दुकानदारों को बगहा (BAGAHA)...

Covid-19 Update

India
2,278,812
Total active cases
Updated on April 21, 2021 10:19 pm