previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home ब्रेकिंग न्यूज पताही के जिहुली में सरकारी तीन पोखर जल संचय का बना मिसाल

पताही के जिहुली में सरकारी तीन पोखर जल संचय का बना मिसाल

Spread the love

नीरज कुमार सिंह। मोतिहारी जिले से 40 किलोमीटर पूर्व पताही प्रखंड मुख्यालय से बारह किलोमीटर उत्तर पूरब बागमती नदी के किनारे शिवहर सीमा से सटे वर्षो पूर्व से कभी बाढ़ तो कभी सुखाड़ की दंश झेलती पंचायत जिहुली में सरकारी तीन तालाबों को सौंदर्यीकरण करा कर स्थानीय मुखिया अजेय सिंह ने जल संचय और सौंदर्यीकरण के क्षेत्र में जिले में आदर्श प्रस्तुत की है, जिसे मिसाल के रूप में देखा जा रहा है। इनके द्वारा जल संचय के क्षेत्र में तालाबों के सौंदर्यीकरण कार्य को देख कर अन्य पंचायतों को भी सीख लेने की जरूरत है। बताया जाता है कि जिहुली पंचायत में अति प्राचीन सरकारी तीन तालाब की खुदाई उस समय कराई गई थी जब लोग पीने की पानी के लिए और भोजन बनाने के लिए उक्त तालाब के जल का उपयोग लोग किया करते थे, उक्त तीनों तलाब को वर्ष को 1993 में आई प्रलयकारी बाढ़ ने मिट्टी से भर दिया। जिस पर लोगों ने अतिक्रमण करना शुरू कर दी थी, जिसको देखते हुए वर्ष 2013 में स्थानीय मुखिया अजेय कुमार सिंह, और पूर्व विधायक अवनीश कुमार सिंह, पंचायत समिति सदस्य बलदेव पासवान, अपने अपने कोष से तालाब की खुदाई और सौंदर्यीकरण का कार्य शुरू कराई और देखते ही देखते कुछ वर्षों में यह तीनों तालाब का जलसंचय और तालाब सौंदर्यीकरण के क्षेत्र में जिले में आदर्श स्थापित कर जिला का नाम रौशन की है। बता दे कि इस तालाब का नाम प्राचीन काल में लोग पीने के पानी के लिए यूज़ करते थे जिसको लेकर नामकरण हुआ था। वही गांव से सटे दक्षिण खैरा पोखर, जिस तालाब के पानी से दाल सिद्ध करने का पानी इस्तेमाल होते थे। वही अलीशेरपुर तालाब में पशु हाथी इत्यादि जानवर के साथ लोगों के पानी पीने के काम में आते थे। तीनों तालाब पर स्थानीय मुखिया ने छठ घाट पर सीढ़ी, लोगों को बैठने के लिए चबूतरा, महिलाओं को वस्त्र बदलने के लिए शेड बनाए गए हैं। जहां गांव और अन्य जगहों के लोग संध्या में तालाब के किनारे बैठकर आनंद लेते हैं। मुखिया श्री सिंह ने बताया कि तालाब में मोटर वोट डालने के लिए एवं जल क्रीडा के लिए व्यवस्था किए जाएंगे। पोखर तालाब में 9 एकड़ में फैला है जिसमें 1 एकड़ से अधिक लोगों ने अपनी कब्जा जमा ली है वहीं खैरवा पोखर और अलिसेरपुर अतिक्रमण से जूझ रहा है। जिस पर अभी और संधि करण के क्षेत्र में इमारती लकड़ी, आम के बाग लगाए जाने का प्रस्ताव आम सभा में लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

18 माह की बच्ची के दुष्कर्मी को आजीवन कारावास की सजा, निर्भया फंड से मिलेगी मदद

बेगूसराय। दुष्कर्म मामले के एक आरोपी को बेगूसराय न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। न्यायालय ने दो साल तक मामले पर विचारने...

सिविल सर्जन ने सूर्या हॉस्पिटल में कोविड वेक्सिनेशन सेंटर का किया शुभारंभ

सहरसा। शहर के गांधी पथ स्थित सूर्या हॉस्पिटल में सोमवार को कोविड-19 वैक्सीनेशन सेन्टर का शुभारंभ किया गया। जिसका उद्घाटन सिविल सर्जन डॉ अवधेश...

बॉडी बिल्डिंग में क्षितिज ने किया पूर्णिया का नाम रोशन

पूर्णिया। पूर्णिया के लाल क्षितिज कुमार ने बिहारशरीफ के आई.एम.ए.हॉल में एनबीबीएफ द्वारा आयोजित सीनियर मिस्टर बिहार बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगता में बिहार में टॉप-5 में...

19 लाख रोजगार मांग रहा युवा बिहार: राजू मिश्रा

दरभंगा। ऑल इंडिया यूथ फेडरेशन (एआईवाईएफ) दरभंगा जिला परिषद् द्वारा सोमवार को राज्यव्यापी आवाह्न पर विभिन्न मांगों को लेकर जिला समाहरणालय पर आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन...

Recent Comments