previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home State Bihar पदुमकेर पंचायत में जल नल योजना हुआ फ्लॉप

पदुमकेर पंचायत में जल नल योजना हुआ फ्लॉप

Spread the love

पताही। बिहार सरकार की महत्वकांक्षी मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत संचालित हर घर नल का जल पहुंचाने की योजना लूटी योजना बन गई है। जिसका उदाहरण आप पताही प्रखंड क्षेत्र के पदुमकेर पंचायत के वार्ड नंबर 10 में देख सकते हैं। परंतु राशि उठाव के बाद भी कार्य अधूरा छोड़ कागजी खानापूर्ति की जा रही है जबकि योजना मद की प्रकाशित राशि पंचायत वार्ड क्रियान्वयन के प्रबंधन समिति के खाते में जमा करा दी गई है 18 लाख रुपए की निकासी भी की जा चुकी है। 12 लाख निकासी के बाद 1 जगहों पर एक स्ट्रक्चर खड़ा तो कर दिया गया लेकिन लोगों को एक बूंद पानी भी नदारद है। वहीं दूसरे जगह पर निर्माण को लेकर 8 लाख की निकासी वार्ड सदस्य लक्ष्मी देवी के ससुर एवं सचिव संजय कुमार सिंह के माध्यम से की गई एवं धरातल पर एक आधे अधूरे बोरिंग के साथ स्ट्रक्चर खड़ा करके पैसे का बंदरबांट कर लिया गया। इस संबंध में ग्रामीणों ने मुखिया संगीता देवी एवं अधिकारियों से भी कई बार शिकायत की लेकिन गरीब लाचार व्यक्तियों की आवाज पर अधिकारी मुखिया की दबंगता के कारण बेबस और लाचार होकर करवाई नहीं कर सके।

previous arrow
next arrow
Slider

वही ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि वार्ड सदस्य लक्ष्मी देवी के ससुर जगदीश साहनी के द्वारा पैसे निकासी मनमाने तरीके से बोरिंग तो डेढ़ सौ फीट ही गाड़ दिए गए परंतु टावर और पाइप बिछाने का कार्य नहीं किए जाने से लोगों के घर में नल का जल नहीं पहुंच सकी है जिसके कारण इन पंचायत के लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। घटिया सामग्री के कारण योजना शुरू होने से पूर्व ही कई जगह नल टूट चुके हैं। ग्रामीणों ने कहा कि इस योजना में मानक के अनुरूप कार्य नहीं किया गया है ठेकेदार द्वारा कार्य कराई गई है ठेकेदार की लापरवाही से योजना कार्य की गति काफी धीमी चल रही है जो 1 वर्ष में भी पूरा नहीं हो सका है। जब मुखिया पति राजू सिंह से संपर्क की गई तो उनके द्वारा आधे अधूरे ही जानकारी दिए और जमीनी विवाद के कारण काम रूकवा देने की बात कही। जिससे स्पष्ट साबित होता है कि पैसे निकासी के बाद जनप्रतिनिधियों द्वारा आपस में बंदरबांट कर ली गई है। वार्ड सदस्य लक्ष्मी देवी के ससुर जगदीश साहनी ने बताया पैसे की जो निकासी हुआ है हमें नहीं बताया जाता है हम पढ़े लिखे नहीं हैं मुखिया जी अपने रिश्तेदार को ही सचिव बनाए है जो चेक पर हमसे सिग्नेचर कराकर पैसे की निकासी वही करते हैं। इस संबंध में प्रखंड विकास पदाधिकारी रितु रंजन कुमार से संपर्क की गई उनके द्वारा भी आधे अधूरे जानकारी दी गई धरातल पर हुआ काम और प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा दी गई जानकारी मैच नहीं कर रही थी जिस से अस्पष्ट साबित होता है बिहार सरकार की यह महत्वकांक्षी योजना लूट योजना बन कर रह गई है।

previous arrow
next arrow
Slider

Most Popular

आप वाहन लेकर वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना में नहीं जा सकेंगे

बगहा। वाल्मीकिनगर के वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना (VTR)  के वन क्षेत्र में निजी वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। साथ ही मंदिर...

सजायाफ्ता कैदी की इलाज दौरान हुई मौत

बेतिया। जिले के  मंडल कारा (JAIL) के एक सजायाफ्ता कैदी की सोमवार को इलाज के दौरान मौत (DEATH) हो गई। वह दुष्कर्म के एक...

एसबीआई बैंक का स्टाफ कोरोना पॉजिटिव

बेतिया। बेतिया (BETTIAH) से दस किलो मीटर दूर नौतन एसबीआई (SBI) के एकाउन्टेन्ट नौलेश कुमार के पोजिटिव रिपोर्ट सोमवार को आने के बाद बैक...

बेतिया के जीएमसीएच में युवती की मौत पर हंगामा

बेतिया। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अस्पताल (GMCH) के फिमेल मेडिसिन वार्ड में शिवानी कुमारी (16) की मौत सोमवार की सुबह हो गयी। परिजनों ने चिकित्सक...

Covid-19 Update

India
1,264,544
Total active cases
Updated on April 13, 2021 12:42 am