Spread the love
  • 9
    Shares
सहरसा। जिले के सौर प्रखंड मनरेगा कार्यालय के अपहृत कनीय अभियंता मुकेश कुमार भारती को पुलिस प्रशासन की दबिश व सक्रियता के कारण अपराधियों ने शुक्रवार की देर रात मुक्त कर दिया।
एसपी राकेश कुमार ने अपने वेश्म में शनिवार को प्रेसवार्ता आयोजित कर जानकारी देते हुए कहा कि मुकेश कुमार भारती अपने प्रखंड कार्यालय में बैठक संपन्न कर 24 नवम्बर की शाम स्कूटी से  घर सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड के सकरौली गांव जा रहे थे। सौर बाजार थाना के समदा बखरी पुल के पास मुकेश कुमार भारती ज्योहीं पहुंचे की चार चक्के गाड़ी में सवार अपराधियों ने स्कूटी में धक्का मार रोक दिया । गाड़ी रुकने के बाद अपराधियों ने जेई को सिर पर मार धक्का देकर कार में बैठा फरार हो गए।
इस संबंध में सौर बाजार थाना कांड संख्या 438/ 20 धारा 364 ,34 भारतीय दंड विधान अंकित किया गया। अपहृत की बरामदगी के लिए अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संतोष कुमार के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया। एसआईटी एवं टेक्निकल सेल तथा गुप्त सूचना के आधार पर संदिग्ध अपराधी भरत यादव को पूछताछ किया गया।उसके बाद इसके संभावित ठिकानों पर एसआईटी एवं टेक्निकल टीम द्वारा घटना में संलिप्त अपराधियों के ठिकाने पर छापामारी की गई।जिसमें अपराधियों ने दबाव में आकर 27 नवम्बर की देर रात को अपहृत मुकेश कुमार भारती को भारतीय नगर सहरसा के पास मुक्त कर दिया। जिसे बाद में एसआईटी द्वारा बरामद किया गया।
इस घटना में संलिप्त तीन से चार अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु छापेमारी की जा रही है। एसपी ने बताया की गिरफ्तार अभियुक्त यादव का लंबा आपराधिक इतिहास रहा है। उसके ऊपर जिले के विभिन्न थानों में कुल 15 मामले दर्ज है।उन्होंने बताया कि भरत यादव 22 नवम्बर को ही जेल से निकला था और एक दिन बाद ही योजना बना जेई का अपहरण कर लिया।
उन्होंने बताया की जेई का अपहरण का मुख्य वजह फिरौती एवं अन्य कारण हो सकते हैं। जिसमें यह मामला व्यक्तिगत अथवा पारिवारिक भी हो सकता है। पुलिस सभी मामलों की छानबीन कर रही है। घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद और कई सूचना बहुत जल्द सामने आ पाएगा। इस मौके पर सदर थाना अध्यक्ष आर के सिंह सहित बड़ी संख्या में पुलिस बल के जवान मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here