previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home National बाबा बाल्हेश्वर धाम: 14वीं शताब्दी से है आस्था का केन्द्र, मंदिर का...

बाबा बाल्हेश्वर धाम: 14वीं शताब्दी से है आस्था का केन्द्र, मंदिर का ‘त्रिशूल’ बदलता है अपनी ‘दिशा’

Spread the love
रायबरेली। 14वीं शताब्दी से आज भी रायबरेली के डलमऊ तहसील में ऐहार गांव में स्थित ‘बाल्हेश्वर शिव धाम’ लोगों की श्रद्धा व आस्था का केंद्र बना हुआ है। शिव मंदिर के विषय में कई आख्यान प्रचलित हैं, जिसमें पता चलता है कि मंदिर में स्थापित शिवलिंग का प्राकट्य गाय के दूध से हुआ था। 
मंदिर के मुख्य पुजारी पंडित झिलमिल महाराज के अनुसार बल्हेमऊ गांव के तिवारी परिवार जो कि गांव की गायें जंगल में चरने जाया करती थी। अचानक एक गाय ने दूध देना बंद कर दिया तो उन्होंने सोचा कि शायद चरवाहा दूध की चोरी करता है। चरवाहे को रंगे हाथ पकड़ने के लिये एक दिन मालिक जाकर जंगलों में छुपकर बैठ गया। उसने जो देखा तो उसकी आंखें फ़टी रह गई। अचानक वही गाय झाड़ियों में जाकर खड़ी हो गई और उसके थन से दूध अपने आप गिरने लगा। मालिक ने जब नजदीक जाकर देखा तो दूध जमीन के एक गढ्ढे में जा रहा है। 
कथा के अनुसार मालिक जब घर लौटे तो रात में उन्हें स्वप्न में इसी स्थान पर खुदाई से प्राप्त शिवलिंग पर मंदिर बनाने का आदेश हुआ। जब इस स्थान की खुदाई की गई तो यहां से एक विशाल स्वयं-भू शिवलिंग प्राप्त हुआ। इसी स्थान पर शिव मंदिर की स्थापना की गई और यह मंदिर भगवान बल्हेश्वर शिव धाम के नाम से प्रसिद्ध हुआ। मंदिर की स्थापना के बाद से इसमें कई बार निर्माण होते रहे,वर्तमान मंदिर का निर्माण ऐहार गांव के पंडित रामसहाय तिवारी व उनके पुत्र भगवान प्रसाद तिवारी द्वारा 1747 ई. में कराई गई थी। मंदिर परिसर में ही विशाल तालाब है। दूर-दराज के लाखों भक्त शिवरात्रि व सावन के महीने में यहां आते हैं।  सोनिया गांधी और प्रियंका वाड्रा सहित कई राजनीतिक हस्तियां भी बाबा का आशीर्वाद लेने आती रहतीं हैं। 
मंदिर के संबंध में एक आश्चर्यजनक चर्चा यह भी है कि मंदिर के गुम्बद में लगा त्रिशूल अपनी दिशा बदलता रहता है। इस बात की पुष्टि करते हुए मुख्य पुजारी पंडित झिलमिल महाराज ने बताया कि इसकी चर्चा भक्तों से सुनी गई थी जिसके बाद यह सोचा गया कि कहीं त्रिशूल ढीला न हो, लेकिन जब निरीक्षण किया गया तो वह कहीं से भी ढीला नहीं था। बावजूद इसके त्रिशूल के दिशा बदलने के कई प्रमाण भक्तों के पास मौजूद हैं। 
मुख्य पुजारी इसे भगवान शिव का चमत्कार मानते हैं। आस्था, परम्परा और आश्चर्य को समेटे यह प्राचीन मंदिर वर्षो से भक्तों की आस्था का केंद्र बना हुआ है। श्रावण मास और महाशिवरात्रि में दूर-दराज से लाखों भक्त यहां आकर अपनी मनोकामना को पूरा करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अंतरराष्ट्रीय शूटर और भाजपा विधायक श्रेयसी सिंह ने किया मैराथन दौड़ का उद्घाटन

पटना/रोहतास। रोहतास जिला प्रशासन एवं रोहतास जिला एथलेटिक्स संघ के संयुक्त तत्वाधान में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित रोहतास मिनी मैराथन, 2021 का उद्घाटन...

घर में घुसकर महिला को मारी गोली, हालत नाजुक

बेगूसराय। बेगूसराय में बेखौफ अपराधियों का कहर लगातार जारी है। सोमवार की दोपहर को बदमाशों ने घर में घुसकर एक महिला को गोली मार...

महिला दिवस पर वालीवाल कार्यक्रम का आयोजन

दरभंगा। महिला दिवस के अवसर पर कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के शिक्षा शास्त्र विभाग में सोमवार को वॉलीवाल कार्यक्रम का आयोजन किया गया।इसकी...

अतिथि मानकर दी जायेगी डायलसिस की सुविधाएं

बेतिया। बेतिया जी.एम.सी.एच. के सी-ब्लाॅक के सेकेन्ड फ्लोर पर अवस्थित डायलसिस सेन्टर का विधिवत उद्घाटन आज जिलाधिकारी कुंदन कुमार द्वारा किया गया। इस अवसर पर...

Recent Comments