Spread the love

डेस्क: महाराष्ट्र में आखिरकार तमाम राजनीतिक दांवपेंच चलने के बाद वर्तमान हालात देखते हुए सरकार के गठन की गुंजाइश नहीं दिख रही है। ऐसे में राज्य में राष्ट्रपति शासन लागु हो चुका है, बता दें कि भारत के अलग-अलग राज्यों में अब तक करीब 125 बार राष्ट्रपति शासन लग चुका है। जबकि महाराष्ट्र में अब तक दो बार ही राष्ट्रपति शासन लागू हुआ है। ताजा घटनाक्रम के अनुसार, महाराष्ट्र में राजनीतिक हालात विकट हो गए हैं। किसी भी दल की ओर से राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को अब तक बहुमत का समर्थन पत्र नहीं सौंपा गया है। ऐसे में मियाद बीतने के बाद राज्यपाल कोश्यारी की ओर राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की गई और आज 12 नवम्बर 2019 को महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू हुआ, महाराष्ट्र में वैसे देखा जाए तो अब तक दो बार राष्ट्रपति शासन लागू हो चुका है, अब यह तीसरी बार है जब इसे लागू किया जाएगा।

महाराष्ट्र में पहली बार 17 फरवरी 1980 को लागू हुआ था। उस वक्त शरद पवार मुख्यमंत्री थे। उनके पास बहुमत था, हालांकि राजनीतिक हालात बिगड़ने पर विधानसभा भंग कर दी गई थी। ऐसे में 17 फरवरी से आठ जून 1980 तक करीब 112 दिन तक राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू रहा था, और दूसरी बार इसी तरह 28 सितंबर 2014 को भी महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाया गया था। उस वक्त राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस थी। कांग्रेस अपने सहयोगी दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) सहित अन्य दलों के साथ अलग हो गई थी और विधानसभा भंग कर दी गई थी। ऐसे में 28 सितंबर 2014 से लेकर 30 अक्तूबर यानि 32 दिनों तक राज्य में दूसरी बार राष्ट्रपति शासन लागू रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here