Spread the love

मुंबई. महाराष्ट्र  बड़े राजनीतिक उठापटक का गवाह बना है। तमाम अटकलों और कयासबाजियों के बीच राज्य में भारतीय जनता पार्टी ने एनसीपी के साथ मिलकर सरकार गठन में कामयाब रही है। बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस  ने शनिवार सुबह महाराष्ट्र  के मुख्यमंत्री के तौर पर एक बार फिर से शपथ ले ली है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी  ने उन्हें शपथ दिलाई। साथ ही एनसीपी के अजित पवार  ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली।शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीसने कहा कि हमें सरकार बनाने का जनादेश मिला था लेकिन शिवसेना ने दूसरी पार्टियों के साथ गठबंधन का प्रयास किया। जिसका परिणाम यह निकला कि सूबे में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया।महाराष्ट्र की जनता को स्थिर सरकार चाहिए न कि कोई खिचड़ी। शिवसेना से जनादेश का सीधे तौर पर अपमान किया है। इस दौरान उन्होंने अजित पवार का अभार जताया, कहा- मैं अभारी हूं कि वे मेरे साथ आए। अब हम महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार देंगे.वहीं शपथ लेने के बाद अजीत पवार ने कहा ‌कि हम लोगों की समस्या के लिए साथ आए हैं। हम किसानों की समस्या को खत्म करना चाहते हैं। उनकी भलाई के लिए ही सरकार में आए हैं। उन्होंने कहा कि लोगों ने जिसे सरकार बनाने के लिए चुना था उन्हीं को सरकार बनानी भी चाहिए। इस दौरान बीजेपी के विधायक रामचरण ने बताया कि रातों रात कोई बात नहीं हुई है। वरिष्ठ नेताओं की बातचीत पहले से चल रही थी. हम सभी जनता और खासकर किसानों की भलाई के लिए सामने आए हैं। बीजेपी और एनसीपी ने साथ में सरकार बनाई है। हम लोग इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार अब लोगों को मिल गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here