previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home motihari महिला प्रोफेसर से अश्लील हरक्कत वाले मामले मे पुलिस पहुंची केविवि, शिक्षिका...

महिला प्रोफेसर से अश्लील हरक्कत वाले मामले मे पुलिस पहुंची केविवि, शिक्षिका ने दिल्ली पहुँच जारी की वीडियो

Spread the love

सागर सूरज

मोतिहारी: केविवि के शिक्षकों एवं अधिकारियों के ऊपर अपने ही एक पूर्व शिक्षिका के साथ यौन शोषण एवं अश्लील हरक्कत किए जाने के आरोपों की जांच करने नगर थाने के पुलिस अधिकारी ज़िला स्कूल स्थित विश्वविद्यालय के कैम्प कार्यालय मे पहुँचे।

सनद रहे कि प्रो नेहा द्वारा मोतिहारी नगर थाने मे एक मुकदमा दर्ज करते हुये अपने ही बिभाग के बिभागाध्यक्ष अरुण भगत, कुलपति के एक नजदीकी एक सेक्शन अधिकारी दिनेश हुड्डा एवं प्रो साकेत रमन को अभियुक्त बनाते हुये आरोप लगाया है कि इन लोगों ने उनके साथ अश्लील हरक्कत की। दर्ज मुकदमे मे आरोप लगाया गया कि उनके बिभागाध्यक्ष अरुण भगत ने गत 18 सितम्बर एवं 25 सितम्बर को ज़िला स्कूल एवं रघुनाथपुर स्थित कार्यालय मे गंदी बात करते हुये सेक्सुयल फेवर की बात कही।

उन्होने कहा कि मै विश्वविद्यालय मे अतिथि शिक्षक के रूप मे नियुक्त हुयी थी, मुझे गत दिनों नौकरी से बाहर कर दिया गया। मेरी नौकरी को बनाए रखने के शर्त पर इन लोगों ने मेरे साथ अश्लील हरक्कत करने का प्रयास करते रहे। दिनेश हुड्डा से जब मै बात करती की मुझे कुलपति महोदय से मिला दो तो हुड्डा भी गंदी बाते करते हुये मुझे छूने का प्रयास करने लगता।

मामले के अनुसंधानकर्ता शैलेंद्र कुमार सिंह के कहा कि आरोपों की जाँच हेतु वे विश्वविद्यालय कैम्पस पहुँचे तो मालूम हुआ की वादी प्रो नेहा नेमा दिल्ली गयी हुयी है। पुलिस को नेहा नेमा ने फोन पर बताया कि वे एक-दो दिन मे मोतिहारी आकर अपना ब्यान पुलिस को दूँगी। सिंह ने बताया कि अभियुक्त गणों से भी मुलाक़ात नहीं हो सकी।

https://youtu.be/rbDD8oQ1Tp4

उन्होने ने आरोप लगते हुये बताया कि अरुण भगत एक विवादास्पद व्यक्ति है जिसके ऊपर मध्यप्रदेश के भोपाल मे आपराधिक मामले चल रहे है। पीड़ित शिक्षिका मध्यप्रदेश के जबलपुर कि निवासी बताई जा रही है।

इधर नगर थाने के पुलिस निरीक्षक अभय कुमार ने बताया कि मामले की जाँच की जा रही है। आरोप गंभीर है। मामले शिक्षिका को नौकरी से हटाये जाने से संभन्धित प्रतीत होता है। मामला सत्य पाये जाने पर अभियुक्तों की गिरफ्तारी तय है।

जानकारों ने बताया कि मामला भादवि 354 ए मे इस मुकदमे को दर्ज किया गया है, जिसमे जमानत संभव है। इधर अरुण भगत ने सभी आरोपों को खारिज करते हुये मामले मे झूठा व बदनाम करने की बात कही है। उन्होने ने पत्रकारों को बताया कि इस तरह के आरोप लगा कर लड़की बेवजह विश्वविद्यालय प्रशासन पर दबाब बनाना चाह रही है। इधर इसी तरह के पूर्व के एक मामले मे दिनेश हुड्डा के ऊपर महिला आयोग एवं मानवधिकर आयोग से जुड़ा मामला अनुसन्धान मे है।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नीतिराज मोटर्स में ऑल न्यू सफारी की ग्रैंड लॉन्चिंग

मोतिहारी। भारत के प्रमुख ऑटोमोटिव ब्रांड टाटा मोटर्स ने अपनी प्रीमियम फ्‍लैगशिप एसयूवी ऑल न्‍यू सफारी को मोतिहारी के अधिकृत विक्रेता नीतिराज मोटर्स प्राइवेट...

बाल दुर्व्यापार के खिलाफ पूर्णियां में पहली बार हुई जनसंवाद

पूर्णिया। नोबेल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी द्वारा स्थापित संस्था कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन फाउंडेशन के तत्वावधान में आज बाल श्रम उन्मूलन के अंतराष्ट्रीय वर्ष...

विधायक राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने श्री राम मंदिर निर्माण के लिए एक लाख रुपये का दिया अंशदान

आरा। भारतीय जनता पार्टी के बड़हरा विधायक और बिहार सरकार के पूर्व मंत्री राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र को अयोध्या...

सीपीआई ने प्रधानमंत्री का पूतला फूँका

दरभंगा। पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस आदि के दामों में बेतहाशा मूल्य वृद्धि, किराना सामानों के बढ़ रहे दाम, तीनों कृषि विरोधी काला कानून के...

Recent Comments