previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home State Delhi योगा को स्कूलों में नहीं किया जा सकता अनिवार्य: सुप्रीम कोर्ट

योगा को स्कूलों में नहीं किया जा सकता अनिवार्य: सुप्रीम कोर्ट

Spread the love
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एनसीईआरटी और सीबीएसई की कक्षा एक से कक्षा आठ तक की किताबों में योग और हेल्थ एजुकेशन से जुड़े टेक्स्टबुक मुहैया कराने की मांग करनेवाली याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई सुनवाई के बाद यह आदेश दिया।
भाजपा नेता और वकील अश्विनी उपाध्याय ने दायर याचिका में मांग की थी कि स्वास्थ्य का अधिकार योग और हेल्थ एजुकेशन दिए बिना संभव नहीं है। याचिका में कोर्ट से मांग की गई थी कि वो केंद्र सरकार को निर्देश दे कि वो राष्ट्रीय योग नीति बनाए। याचिका में एनसीईआरटी और सीबीएसई के कक्षा एक से कक्षा आठ तक की किताबों में योग और हेल्थ एजुकेशन से जुड़े टेक्स्टबुक मुहैया कराए जाएं।
याचिका में कहा गया था कि कोरोना संकट के दौरान लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए एक मानक योगा प्रोटोकॉल विकसित करने के लिए आयुष मंत्रालय को निर्देश दिया जाएं। सूचना और प्रसारण मंत्रालय को ये निर्देश दिया जाए कि वो कोरोना से संबंधित योगा प्रोटोकॉल का प्रसारण करें ताकि लोगों में जागरुकता आ सके। याचिका में कहा था कि संविधान की धारा 21 के तहत स्वास्थ्य का अधिकार मौलिक अधिकारों की सूची में आता है। इसलिए हर व्यक्ति को स्वस्थ रहने का अधिकार है। राज्य का भी ये कर्तव्य है कि वो नागरिकों खासकर बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति खास ध्यान दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

श्री लक्ष्मीप्रपन्न जगदम्बा आनंदधाम मंदिर के प्रवेश द्वार का हुआ भव्य उद्घाटन

मोतिहारी। मोतिहारी शहर के कचहरी चौक स्थित जगदम्बा आनंदधाम मंदिर के प्रवेश द्वार का भव्य उदघाटन रविवार को परमपूज्य श्री लक्ष्मीप्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज...

बिहार के 6 आईएएस का तबादला, चैतन्य प्रसाद बने गृह विभाग के प्रधान सचिव

पटना। बिहार सरकार के 6 वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है। इसमें चैतन्य प्रसाद को जल संसाधन विभाग से स्थानांतरित करते...

आसनपुर कुपहा से निर्मली तक दो राउंड में किया गया स्पीड ट्रायल

सुपौल। कोसी नदी पर बने रेल महासेतु होकर आसनपुर कुपहा से निर्मली तक 87 साल बाद रेल परिचालन शुरू करने से पहले शनिवार को डिप्टी...

कथित जहरीली शराब से मौत के बाद अब पुलिस की खुली नींद, चलाएगी जागरूकता अभियान

मुज़फ़्फ़रपुर। बिहार में पूर्ण शराबबंदी है लेकिन मुज़फ़्फ़रपुर जिले में कथित जहरीली शराब से कई की मौत हो गयी। जिसके बाद अब पुलिस प्रशासन की...

Recent Comments