previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home politics शिवहर संसदीय क्षेत्र से तीसरी बार भाजपा की टिकट पर जीत दर्ज...

शिवहर संसदीय क्षेत्र से तीसरी बार भाजपा की टिकट पर जीत दर्ज करने को बेताब, महागठबंधन से सीधी टक्कर

Spread the love
शिवहर लोकसभा का इतिहास रहा चौकाने वाला
एक साथ तीन बार इस क्षेत्र से नहीं हो सका लगातार सांसद
नीरज कुमार सिंह:- शिवहर। शिवहर संसदीय क्षेत्र चुनाव 2019 में भारतीय जनता पार्टी से तीसरी बार चुनाव मैदान में परचम लहराने उतरी रामा देवी, शिवहर की इतिहास को बदलने में जुटी हैं, वहीं महागठबंधन ने भाजपा को शिकस्त देने को लेकर चुनावी मैदान में सैयद सैयद फैसल अली को चुनावी समर में उतार हैं, तो लालू राबड़ी मोर्चा से अंगेश कुमार, का नामांकन रद्द होने के बाद चुनावी रंग की फिजा और गुलजार हो गई है, जिसको लेकर दोनों ही पार्टियां अपनी अपनी जीत के प्रति आश्वस्त दिख रही है। इनके नामांकन रद्द होने के बाद इस क्षेत्र में इस बार शिवहर संसदीय चुनाव बड़ा दिलचस्प बनता जा रहा है। इधर विकास के मुद्दे गोन हो गए हैं,और कास्ट फैक्टर बड़ी तेजी से काम करनी शुरू कर दी है। ऐसे में हाथी किस करवट बैठेगा कहना बड़ा मुश्किल होगा।

बता दें कि बिहार के सबसे छोटे जिले शिवहर में एक विधानसभा क्षेत्र आता है। 1971 के बाद शिवहर संसदीय क्षेत्र अस्तित्व में आया। शिवहर संसदीय क्षेत्र में पूर्वी चंपारण जिले के ढाका, चिरैया ,मधुबन, आता है। वहीं सीतामढ़ी जिले के रीगा, बेलसंड, विधानसभा और शिवहर जिले का एक मात्र विधानसभा क्षेत्र शामिल है। शिवहर संसदीय क्षेत्र वर्ष 19 77 के चुनाव में अस्तित्व में आया। इससे पहले पुपरी सीट और उससे पहले 1953 में मुजफ्फरपुर नॉर्थ वेस्ट का यह क्षेत्र था। शिवहर संसदीय सीट के गठन के बाद क्षेत्र से सर्वप्रथम सबसे पहले 1953 में शिवहर संसदीय सीट से मुजफ्फरपुर नॉर्थवेस्ट कहा जाता था। जहां से ठाकुर जुगल किशोर सिन्हा, ने जीत दर्ज की उसके बाद जुगल किशोर सिन्हा की पत्नी राम दुलारी सिन्हा, तीन बार प्रतिनिधित्व कर चुकी है। इसके बाद इसका नाम पुपरी संसदीय क्षेत्र हो गया। 1957 में दिग्विजय नारायण सिंह, कांग्रेस के टिकट पर जीत दर्ज की उसके बाद आता है 1962 में रामदुलारी सिन्हा, कांग्रेस के टिकट पर तीन बार प्रतिनिधित्व कर चुकी थी। 1967 में एसपी साहू, कांग्रेस के टिकट पर,तो 1971 में पहली बार हरिकिशोर सिंह, ने कांग्रेस के टिकट पर जीत हासिल की। 1977 का चुनाव आता है। औपचारिक रूप से शिवहर संसदीय क्षेत्र अस्तित्व में आया।

सबसे पहले शिवहर संसदीय क्षेत्र अस्तित्व में आया और 1977 में ठाकुर गिरजानंद सिंह, जनता पार्टी से जीत दर्ज कराई, उसके बाद रामदुलारी सिन्हा 1980 में कांग्रेस के टिकट पर दूसरी बार, तो 1984 में कांग्रेस की लहर में तीसरी बार तीसरी बार जीत दर्ज कर दिल्ली पहुंची थी है । फिर आता है 1989 दूसरी बार शिवहर संसदीय क्षेत्र से हरिकिशोर सिंह, को क्षेत्र की जनता ने प्रतिनिधित्व करने का मौका जनता दल से मिलता है।

उसके ठीक बाद 1991 में भी हरिकिशोर सिंह जीते थे। अब आता है 1996 जहां से जहां से आनंद मोहन, पहली बार समता पार्टी से चुनाव जीते और दुर्भाग्यवश दो वर्ष के बाद चुनाव फिर हुआ और आनंद मोहन फिर चुनाव जीत गए। समय ऐसा हुआ कि 1998 अगले ही वर्ष यानी 1999 में भी चुनाव हुआ और इस बार आनंद मोहन को हार मिली। पहली बार मोहम्मद अनवर सांसद बने और जीत दर्ज की। 2004 में राजद के टिकट पर सीताराम सिंह, जीतने को मौका मिला और 2009 के चुनाव में रामादेवी भाजपा के भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर पहली बार पारलियामेंट पहुंची। 2009 के बाद 2014 में भि शिवहर संसदीय क्षेत्र की जनता ने दूसरी बार रामा देवी को चुनाव जीता कर पार्लियामेंट भेजने का काम किया।

अब 2019 के चुनाव शिवहर सीट से तीसरी बार भाजपा से चुनाव मैदान में उतरी है। उनके मुकाबले महागठबंधन की ओर से राजद ने सैयद फैसल अली को उतारा है। मुकाबले के सीधे आसार बन रहे हैं ऐसे में लोग कई तरह के कयास लगा रहे हैं। सबसे महत्वपूर्ण अहम चुनाव में खेल बिगाड़ने में लगे लालू राबड़ी मोर्चा के प्रत्याशी अंगेश कुमार सिंह का नामांकन रद्द होने से चुनाव और दिलचस्प होने के आसार दिखने लगे हैं। ऐसे शिवहर संसदीय क्षेत्र कॉल लॉग चितौड़गढ़ के रूप में मान रहे थे लोगों का कहना है कि इस क्षेत्र में चार लाख राजपूत मतदाता है जो अपनी खेल मजबूत करने और बिगाड़ने में भूमिका निभा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुज़फ़्फ़रपुर जेल में छापेमारी, जेल सुरक्षा में अब लगेंगे बीएमपी जवान

मुजफ्फरपुर। मुजफ्फरपुर ज़िले के डीएम प्रणव कुमार के नेतृत्व में बुधवार को यहां केंद्रीय कारा  में औचक निरीक्षण किया गया। इस क्रम में कारा के...

उद्योग मंत्री के निर्देश पर डीएम ने पेपरमील का किया निरीक्षण

सहरसा। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने बुधवार को बैजनाथपुर पेपर मील परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने बंद पड़े पेपर मील के भवन, औद्योगिक संरचना सहित...

महिषी के संजय सारथी ने भोजपुरी फिल्म में निभाई खलनायक की भूमिका

सहरसा। कोसी के लाल महिषी प्रखंड के लहुआर तेलहर निवासी संजय सारथी सिनेमा जगत में धमाल मचा रहें हैं। वे अब तक कई फिल्मो...

महिला दिवस पर आयोजित रक्तदान शिविर में महिलाएं करेगी रक्तदान

सहरसा। महिलाओ के सशक्तिकरण एवं उनके हितो के लिए समर्पित सामाजिक संस्था ' संगिनी उम्मीद की किरण ' आगामी 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला...

Recent Comments