previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home motihari श्री नारायण शर्मा टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में मनाई ग‌ई महात्मा गांधी और...

श्री नारायण शर्मा टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में मनाई ग‌ई महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयन्ती

Spread the love

मोतिहारी: स्थानीय बरियारपुर बनकट स्थित श्री नारायण शर्मा टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में बापू गांधी की 150वीं जयन्ती और देश के द्वितीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 115वीं जयन्ती मनायी गयी। कार्यक्रम की शुरुआत प्रशासक व प्राध्यापकों के द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलन तथा पुष्पार्पण करने के साथ-साथ छात्राध्यापिकाओं के द्वारा सरस्वती वंदना करके किया गया। बीएड व डीएल‌एड के प्रशिक्षुओं द्वारा महात्मा गाँधी के प्रिय भजनों तथा उनसे जुडे़ कविताओं की प्रस्तुति की ग‌ई।साथ हीं आर्ट एण्ड क्राफ्ट की प्रदर्शनी भी लगाई ग‌ई, जिसमें प्रशिक्षुओं ने महात्मा गांधी से संबंधित एक से बढ़कर एक कलाकृतियों का प्रदर्शन किया। महाविद्यालय में एक लेख प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया जिसमें कॉलेज के प्रशिक्षुओं ने महात्मा गांधी के मोहन दास से लेकर महात्मा गांधी बनने तक की कहानी को अपने लेखों में पिरोया। मंच से प्रो.आरके. दूबे ने कला कृतियों में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान ग्रहण करने वाले प्रतिभागियों में छात्राध्यापिका श्वेता, सविता और रिंकी के नामों की घोषणा किया और कहा कि सभी प्रतिभागियों की कलाकृतियाँ काबिल-ए-तारीफ हैं। प्रशासक आरएस त्रिपाठी ने कहा कि पूरा देश आज महात्मा गांधी की जयंती मना रहा है। महात्मा गांधी को हम प्यार से बापू भी कहते हैं। जिन्होंने सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलना सिखाया था। गांधी जी ने बिना शस्त्र उठाए अंग्रेजों को झुकने पर मजबूर किया था। आज से 150 साल पहले ही महात्मा गांधी के विचार ऐसे थे, जो आपको आज भी और आगे भी जीवन के हर मोड़ पर सही लगेंगे। वहीं वरिय प्राध्यापक एस के तिवारी ने कहा कि मुझे खुशी है कि मैं बापू के चम्पारण में क‌ई वर्षों से लगातार गांधी जयंती मना रहा हूँ। प्रशिक्षक समीर अहमद ने एक कविता प्रस्तुत किया। प्रो.अमन कुमार चौधरी ने शास्त्री जी के सादे और साहसी व्यक्तित्व की चर्चा करते हुए कहा कि भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का भी आज जन्मदिन है। 16 साल की उम्र से हिंदुस्तान की आजादी के संग्राम में कूदने वाले शास्त्री जी जब आजाद हिंदुस्तान में दूसरे प्रधानमंत्री बने तो एक बार उन्होंने भारत देश का महिमामंडन करते हुए कहा कि भारत के बारे में सबसे खास चीज यह है कि यहां हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, पारसी और अन्य धर्मों के लोग साथ-साथ प्रेम के साथ रहते हैं। यहां मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारे चर्च सभी कुछ है।बस यही अंतर भारत और अन्य मुल्कों में है। मौके पर प्राध्यापकों में प्रो.काजल तिवारी, राजेश द्विवेदी, डाॅ.फिरोज अहमद, समा परबीन,मुरली कुमार सहित अन्य उपस्थित थे। मंच संचालन प्रो. एसके.पंकज ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

18 माह की बच्ची के दुष्कर्मी को आजीवन कारावास की सजा, निर्भया फंड से मिलेगी मदद

बेगूसराय। दुष्कर्म मामले के एक आरोपी को बेगूसराय न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। न्यायालय ने दो साल तक मामले पर विचारने...

सिविल सर्जन ने सूर्या हॉस्पिटल में कोविड वेक्सिनेशन सेंटर का किया शुभारंभ

सहरसा। शहर के गांधी पथ स्थित सूर्या हॉस्पिटल में सोमवार को कोविड-19 वैक्सीनेशन सेन्टर का शुभारंभ किया गया। जिसका उद्घाटन सिविल सर्जन डॉ अवधेश...

बॉडी बिल्डिंग में क्षितिज ने किया पूर्णिया का नाम रोशन

पूर्णिया। पूर्णिया के लाल क्षितिज कुमार ने बिहारशरीफ के आई.एम.ए.हॉल में एनबीबीएफ द्वारा आयोजित सीनियर मिस्टर बिहार बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगता में बिहार में टॉप-5 में...

19 लाख रोजगार मांग रहा युवा बिहार: राजू मिश्रा

दरभंगा। ऑल इंडिया यूथ फेडरेशन (एआईवाईएफ) दरभंगा जिला परिषद् द्वारा सोमवार को राज्यव्यापी आवाह्न पर विभिन्न मांगों को लेकर जिला समाहरणालय पर आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन...

Recent Comments