previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home State Bihar सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी जल्द होगी पूरी : मंगल पाण्डेय

सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी जल्द होगी पूरी : मंगल पाण्डेय

Spread the love

पटना। बिहार विधानसभा में बजट सत्र के दसवें दिन शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने कहा कि राज्य के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी जल्द ही दूर कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि बिहार में एलोपैथिक डॉक्टरों के साथ होम्योपैथी और आयुष डॉक्टरों की बहाली प्रक्रिया चल रही है। जल्द ही इनकी नियुक्ति कर सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी पूरी कर ली जाएगी।

previous arrow
next arrow
Slider

प्रश्नोत्तर काल में शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग से जुड़े सवालों पर सरकार को जवाब देना था। अलग-अलग विधायकों ने स्वास्थ्य विभाग से जुड़े सवाल सदन में रखे। विपक्षी दल राजद के दरभंगा ग्रामीण और रामगढ़ से विधायक ललित यादव एवं सुधाकर सिंह समेत कई सदस्यों ने राज्य के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों और नर्सों के साथ अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की कमी का मामला उठाया।

इसके जवाब में विभागीय मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि राज्य तकनीकी सेवा आयोग के जरिए बहाली की प्रक्रिया चल रही है। इसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान में 40,100 एलोपैथिक डॉक्टर, 33,922 आयुष डॉक्टर, 34,257 होम्योपैथ डॉक्टर, 5,203 दंत चिकित्सक और 31,434 नर्स राज्य के वभिन्न अस्पतालों में कार्यरत हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर करने के उद्देश्य से ग्यारह नए मेडिकल कॉलेज, 23 जीएनएम स्कूल और 24 नर्सिंग स्कूल खोले जायेंगे। उन्होंने सदन को बताया कि गत वर्ष राज्य के 202 स्वास्थ्य केंद्रों में 6,293 नर्सों को नियुक्त किया गया। साथ ही कहा कि राज्य के स्वास्थ्य केंद्रों पर डॉक्टरों की कमी को दूर करने के उद्देश्य से तकनीकी सेवा आयोग ने 2,632 समान्य चिकित्सा पदाधिकारी और 3,706 विशेषज्ञ चिकित्सा पदाधिकारी की नियुक्ति की जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य के 1,772 प्रयोगशाला के लिए पदों पर नियुक्ति के लिए बिहार कर्मचारी चयन आयोग चयन की कार्रवाई की जा रही है।

सदन में विपक्षी सदस्यों ने सरकार पर आरोप लगाया कि वर्ष 2015 में सरकारी अस्पताल भवनों के निर्माण का फैसला किया गया था लेकिन विभाग डॉक्टरों की बहाली नहीं कर पाया। आखिर किसकी लापरवाही से डॉक्टरों की नियुक्ति में देरी हुई, यह सरकार को बताना चाहिए। मंगल पांडे ने कहा कि बिहार लोक सेवा आयोग से नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने में वर्षों लग जाते थे, लेकिन अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर तकनीकी सेवा आयोग से बहाली कराई जा रही है। अगले तीन से चार महीनों में इस प्रक्रिया को पूरा कर नए डॉक्टरों की नियुक्ति कर दी जाएगी

previous arrow
next arrow
Slider

Most Popular

शराब माफियाओं ने किया पुलिस पर हमला, महिला की मौत से ग्रामीण आक्रोशित

सागर सूरज/ जितेश मोतिहारी/कोटवा। कोटवा थाना (Kotwa Police Station) क्षेत्र के एक गाँव में शराब को लेकर प्राप्त सूचना के बाद छापेमारी (Raid) करने गयी...

कोरोना जैसी महामारी के बीच राजनीति नहीं होनी चाहिए: उपेन्द्र कुशवाहा

पटना। बिहार विधानपरिषद सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने संजय जयसवाल के बयान पर बुधवार को पलटवार करते हुए कहा कि कोरोना...

‘मैं कटिहार हूं’ के सातवें एपिसोड को उप मुख्यमंत्री ने किया रिलीज

पटना/कटिहार। बिहार के उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद (DUPY CM TARKISHOR PRASAD) ने कटिहार (KATIHAR) दौरे के दूसरे दिन एक कार्यक्रम में जिले के धार्मिक,...

एसडीएम ने एनएच पर दुकान लगानेवालों का दुकान स्थान्तरित कराया

बगहा। बगहा नगर परिषद स्थित राष्ट्रीय पथ-727 पर ठेला या फुटपाथ पर दुकान लगाकर फल और सब्जी आदि बेचने वाले दुकानदारों को बगहा (BAGAHA)...

Covid-19 Update

India
2,236,207
Total active cases
Updated on April 21, 2021 9:18 pm