previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home State Delhi ​किसी भी स्थिति​ को संभालने के लिए तैयार ​रहे वायुसेना: राजनाथ

​किसी भी स्थिति​ को संभालने के लिए तैयार ​रहे वायुसेना: राजनाथ

Spread the love
नई दिल्ली। ​रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है ​कि जिस तरह ​एयरफोर्स ने बहुत ही प्रोफेशनल ढंग से ​​बालाकोट में एयर​ ​स्ट्राइक की थी​, उसी तरह पूर्वी लद्दाख में भी ​​वायुसेना ने ​​अपनी तैनाती करके कड़ा संदेश दिया है।​​​​ ​उन्होंने कहा कि मौजूदा चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भारतीय​ वायुसेना की भूमिका महत्वपूर्ण है। कोविड-19 महामारी के दौरान भी वायुसेना का योगदान सराहनीय रहा है​​। ​रक्षा मंत्री का कहना है कि आईएएफ को ​​किसी भी स्थिति​यों को संभालने के लिए तैयार रहना चाहिए​। 
​रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ​​​वायु सेना कमांडरों के तीन दिवसीय सम्मेलन का उद्घाटन बुधवार को​ वायु मुख्यालय (वायु भवन) में​ ​किया।​रक्षा मंत्री ने ​​वायु सेना के कमांडरों को ​संबोधित करते हुए ​पिछले कुछ महीनों में अपनी परिचालन क्षमता बढ़ाने के लिए भारतीय वायुसेना ​की सेवाओं को सरा​हा। उन्होंने कहा कि पूर्वी लद्दाख में​ चीन की तैनाती के जवाब में भारतीय वायुसेना ने जिस तरह ​तेजी से तैनाती की, उसने ​​बालाकोट में हवाई हमलों ​की तरह ​प्रतिकूल संदेश दिया है। रक्षा मंत्री ने ​पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा ​​(एलएसी​)​ पर डी-एस्केलेशन के लिए चल रहे प्रयासों की सराहना की और भारतीय वायुसेना से किसी भी स्थिति को संभालने के लिए तैयार रहने का आग्रह किया।
उन्होंने ​कोविड​-19 महामारी के ​दौरान कई मिशनों के दौरान निभाई गई भूमिका ​और ​​किए गए महत्वपूर्ण योगदान ​के लिए भारतीय वायुसेना​ की प्रशंसा की। उन्होंने रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भर​ होने पर ​जोर देते हुए कहा कि इस ​सम्मेलन का विषय ​’अगले दशक में आईएएफ’ आने वाले दिनों में स्वदेशीकरण के प्रयासों को बढ़ाने के लिए बहुत उपयुक्त ​है। उन्होंने​ कहा कि सैन्य बलों के प्रमुख ​(सीडीएस​)​ की नियुक्ति और सैन्य मामलों का विभाग (डीएमए) ​बनने के बाद से तीन सेवाओं के भीतर तालमेल और एकीकरण बढ़ाने की दिशा में ​काफी प्रगति ​हुई है।​ ​रक्षा मंत्री ने​ प्रौद्योगिकी में बदलाव के लिए आईएएफ की भूमिका को स्वीकार करने और नैनो प्रौद्योगिकी, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, साइबर और अंतरिक्ष डोमेन में उभरती क्षमताओं को अपनाने ​पर भी जोर दिया। उन्होंने कमांडरों को आश्वासन दिया कि सशस्त्र बलों की सभी वित्तीय ​जरूरतें पूरी ​की जाएंगी।
वायु सेना प्रमुख चीफ एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने बलों की तैनाती और तत्परता सुनिश्चित करने में सभी कमांडों की प्रशंसा करते हुए कहा कि छोटी सूचना पर स्थितियों को संभालने की क्षमता पर ध्यान देने की जरूरत है। वायु सेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने अपने कमांडरों को संबोधित करते हुए कहा, आईएएफ अल्पावधि के साथ-साथ रणनीतिक खतरों से निपटने के लिए अच्छी तरह से तैयार था, और इकाइयों को प्रतिकूल रूप से किसी भी आक्रामक कार्रवाई का मुकाबला करने के लिए समान रूप से तैयार किया गया था। 
तीन दिवसीय सम्मेलन के दौरान​ ​कमांडर सभी उभरते खतरों से निपटने के लिए अगले दशक में भारतीय वायुसेना ​की ​क्षमता​ बढ़ाने पर विचार-विमर्श ​करेंगे​​।​ साथ ही पहले वर्तमान परिचालन परिदृश्य और तैनाती की समीक्षा करेंगे​​।​ कमांडरों के सम्मेलन में 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा ​पर वायुसेना और लड़ाकू विमान राफेल ​की तैनाती के अलावा ​वायुसेना के ​लिए ‘​भविष्य ​का रोडमैप​’ ​बनाने पर ​चर्चा होगी।​​ ​वायु सेना कमांडरों के सम्मेलन ​से पहले वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने रक्षा मंत्री और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों का स्वागत किया। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मोतिहारी के अलोक ने बनायीं व्हाट्सएप से भी बेहतर एप, आईटी क्षेत्र में सनसनी

सागर सूरज मोतिहारी। रघुनाथपुर निवासी एक 14 वर्षीय बच्चे ने लॉक डाउन को अवसर के रूप में तब्दील करते हुए व्हाट्सअप्प से भी बेहतर फीचर वाला...

एक मार्च से पहली से पांचवीं तक की कक्षाएं होंगी शुरु, गाइडलाइन जारी

पटना। बिहार में एक से लेकर पांचवीं की कक्षाएं एक मार्च से खुल जाएंगी। इसे लेकर विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने  ग्रामीण...

युवक को गोली मारी, गंभीर अवस्था में इलाजरत

दरभंगा। जिले के कमतौल थाना क्षेत्र अंतर्गत लाधा गांव के निकट गुरुवार की देर शाम एक युवक को गोली मार दी गयी। जिसकी पहचान...

आग से झुलस कर बच्चे की मौत

बेतिया। जिले में  शिकारपुर थाना क्षेत्र के दहड़वा टोला गांव में बीती रात्रि में शॉर्ट सर्किट से आग लगने से एक बच्चे की झुलस...

Recent Comments