previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home State Delhi ​राफेल अब भारत से चंद घंटों की दूरी पर

​राफेल अब भारत से चंद घंटों की दूरी पर

Spread the love
नई दिल्ली। राफेल विमान अब भारत से चंद घंटों की दूरी पर हैं। पहली खेप में पांच राफेल लड़ाकू विमान बुधवार सुबह भारत पहुंचेंगे। सोमवार को सभी पांच विमान फ्रांस से रवाना हुए और सात घंटे का सफर करके रात को यूएई में सुरक्षित लैंडिंग की। रात भर संयुक्त अरब अमीरात में अबू धाबी के पास अल धफरा में फ्रांसीसी एयरबेस पर ठहरने के बाद बुधवार को सुबह भारत पहुंचेंगे। अंबाला एयरबेस भी अब राफेल के स्वागत के लिए पूरी तरह तैयार है। सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त कर लिए गए हैं। इसी के मद्देनजर एयरबेस के आसपास 3 किलोमीटर के दायरे को ‘नो ड्रोन जोन’ घोषित कर दिया गया है। इस फ्रांसीसी युद्धक विमान को वायुसेना के बेड़े में शामिल करने का औपचारिक समारोह 20 अगस्त को होगा।

पांच फ्रांसीसी राफेल लड़ाकू जेट विमानों का पहला जत्था बुधवार को अंबाला में उतरने वाला है लेकिन वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ कई क्षेत्रों में चीन के साथ तनाव के चलते उनके आगमन के समय के बारे में आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है। अंबाला एयरबेस पर बुधवार को वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरके​एस भदौरिया राफेल विमानों को रिसीव करने पहुंचेंगे। राफेल की लैंडिंग से पहले एयर फोर्स स्टेशन के आस-पास और इससे सटे गांवों धूलकोट, बलदेव नगर, गरनाला और पंजहोरा आदि इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है। एयर फोर्स स्टेशन के आस-पास फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी पर भी पाबंदी लगाई गई है। एयरफोर्स और अंबाला जिला प्रशासन ने एयरबेस के 3 किलोमीटर के दायरे को ‘नो ड्रोन जोन’ घोषित कर दिया है। अंबाला छावनी के डीएसपी राम कुमार ने कहा कि ‘नो ड्रोन जोन’ का उल्लंघन कर​ने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यहां से पाकिस्तान की सीमा लगभग 300 किलोमीटर दूर है, जिसके चलते अंबाला एयरबेस में भी राफेल को लेकर पुख्ता बंदोबस्त कर लिये गए हैं
राफेल विमानों की यह पहली स्क्वाड्रन पश्चिमी क्षेत्र के अंबाला से ऑपरेशनल होगी। इस एयरबेस का उपयोग सैन्य और सरकारी उड़ानों के लिए किया जाता है। अभी यहां जगुआर लड़ाकू विमान के दो स्क्वाड्रन और मिग-21 बाइसन का एक स्क्वाड्रन हैं। वायु सेना के मार्शल अर्जन सिंह बेस के पहले कमांडर थे। पुलवामा आतंकी हमले के बाद फरवरी 2019 में पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले के लिए इस्तेमाल किए गए मिराज लड़ाकू विमानों ने यहां से उड़ान भरी थी। राफेल विमान की दूसरी स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में होगी। सौदे के मुताबिक भारत को फ्रांस से कुल 36 राफेल विमान मिलने हैं, जिनमें से अभी 10 मिले हैं। पांच राफेल भारत आ रहे हैं और पांच फ्रांस में ही प्रशिक्षण के लिए रोके गए हैं। 

भारत आ रहे पांच राफेल में से सिंगल सीट वाले दो विमान प्रशिक्षण के लिए हैं और तीन ट्विन सीट वाले आपरेशनल होंगे, जिनकी पूर्वी लद्दाख की सीमा पर तैनाती किये जाने की योजना है। सभी 36 विमानों की डिलीवरी 2021 तक पूरी हो सकती है। पूर्व वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल अरूप राहा का कहना है कि राफेल भारतीय वायुसेना के लिए एक युद्ध विजेता और चीन के साथ सैन्य तनाव के समय एक विशाल मनोबल बढ़ाने वा​​ला होगा।उन्होंने यह भी कहा कि वायुसेना को और अधिक राफेल फाइटर जेट्स लेने चाहिए, क्योंकि 36 जेट्स का ऑर्डर पर्याप्त नहीं था।
 
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुज़फ़्फ़रपुर जेल में छापेमारी, जेल सुरक्षा में अब लगेंगे बीएमपी जवान

मुजफ्फरपुर। मुजफ्फरपुर ज़िले के डीएम प्रणव कुमार के नेतृत्व में बुधवार को यहां केंद्रीय कारा  में औचक निरीक्षण किया गया। इस क्रम में कारा के...

उद्योग मंत्री के निर्देश पर डीएम ने पेपरमील का किया निरीक्षण

सहरसा। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने बुधवार को बैजनाथपुर पेपर मील परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने बंद पड़े पेपर मील के भवन, औद्योगिक संरचना सहित...

महिषी के संजय सारथी ने भोजपुरी फिल्म में निभाई खलनायक की भूमिका

सहरसा। कोसी के लाल महिषी प्रखंड के लहुआर तेलहर निवासी संजय सारथी सिनेमा जगत में धमाल मचा रहें हैं। वे अब तक कई फिल्मो...

महिला दिवस पर आयोजित रक्तदान शिविर में महिलाएं करेगी रक्तदान

सहरसा। महिलाओ के सशक्तिकरण एवं उनके हितो के लिए समर्पित सामाजिक संस्था ' संगिनी उम्मीद की किरण ' आगामी 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला...

Recent Comments