शबरी माता के भक्ति प्रसंग सुन श्रोता हुए मंत्रमुग्ध

पीपराकोठी, पूर्वी चम्पारण। प्रखंड क्षेत्र के झखरा बलुआ में सोमवार को आयोजित भुइयां महाराज व शबरी माता महोत्सव में चल रहे संगीतमय कार्यक्रम में सुप्रशिद्ध गायिका वंदना शुक्ला व उनके सहयोगी कलाकारों ने शबरी माता के नवधा भक्ति के उपदेश की कथा सुनाई के साथ झांकी प्रस्तुति कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। नाटक के माध्यम से संदेश दिया कि हम मनुष्य दूसरों से प्रेम तो करते हैं पर उस प्रेम में कभी ना कभी अप स्वार्थ की खटास आ जाती है। राम और भरत के प्रेम में कभी भी अपस्वार्थ की खटास नहीं आई। यदि हम हमारे जीवन में रामायण लाना चाहते हैं तो अपने कर्तव्य को निष्ठा से करते हुए वर्तमान समय को पवित्र बनाएं। व्यक्ति अच्छी परिस्थितियों में तो हमेशा ही अच्छा होता है पर जो बूरी परिस्थितियों में भी अच्छा होता है, वहीं व्यक्ति विजयी कहलाता है। इस दौरान शबरी माता के प्रसंग को सुन श्रोता भाव विभोर हो गये।