एयर फोर्स अधिकारी हत्याकांड: ग्रामीणों में तनाव, थानाध्यक्ष पर शराब माफियाओं से मिलीभगत का आरोप

एयर फोर्स अधिकारी के द्वारा थानाध्यक्ष के गालों पर मारे गए थप्पड़ भी चर्चे में

सागर सूरज

मोतिहारी। जिले के संग्रामपुर थाना क्षेत्र के तिवारी टोला गाँव में एयर फोर्स के एक ऑफिसर को चाकू गोद कर निर्मम हत्या करने के बाद से इलाके में तनाव का माहौल है। हालाँकि स्थानीय प्रशासन दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए पांच दिन का समय लिया है। इस दरम्यान घटना का मुख्य अभियुक्त सब्बी मुखिया को मलाही थाना क्षेत्र के एक इलाके से गिरफ्तार कर लिया है, परन्तु इससे भी लोगों का आक्रोश ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। ग्रामीणों ने बताया है कि घटना को शराब माफियाओं ने अंजाम दिया है। गाँव से सटे हजारों एकड़ में फैले सरेह में तक़रीबन 100 से अधिक जगहों  पर चुलाई शराब बनाई जाती है, जहाँ से ट्रक और अन्य गाड़ियों से चुलाई शराब जिले के विभिन्न इलाकों में भेजी जाती है। शराब कारोबारी इन इलाके (सरेह) से शराब मुख्य मार्ग से ना ले जाकर स्थानीय लोगों के खेतों से होकर ले जाते है, ताकि किसी बाहरी प्रशासन से बच सके, जिसके कारण फसल इतनी बर्बाद होती है कि कई लोगों ने अपने खेतों में अब फसल लगाना भी बंद कर दिया। क्योकि यह कारोबार स्थानीय थाने की मिलीभगत से चल रही है, इसलिए आवेदन के बाद भी स्थानीय पुलिस कभी भी इस इलाके में झाकने तक नहीं आई।

WhatsApp_Image_2022-01-10_at_21_32_02

बताया गया है कि शहीद आदित्य उर्फ़ अलोक तिवारी एयर फोर्स के ऑफिसर थे, उनके पिता चंद्रेश्वर तिवारी एक सम्मानित रिटायर प्रधान शिक्षक है। पिता ने खेत में शराब माफियाओं के द्वारा बनाये गए अवैध सड़क को रोकने को लेकर सबसे अरदास लगायी परन्तु किसी के द्वारा ध्यान नहीं देने के कारण अपने खेत के उक्त रास्ते में उन्होंने गढ्ढा खोद दिया, ताकि उक्त खेत को सड़क के रूप में इस्तेमाल ना किया जाये बावजूद इसके शराब कारोबारी बाइक पर शराब लादकर उसी खेत से जाने लगे और अधिक फसल नष्ट करने लगे, जिसको लेकर अलोक मना करने गए तो उनके पिता के सामने ही पुत्र को चाकू से गोद-गोद कर उनकी हत्या कर दी गयी।

ग्रामीणों की माने तो अलोक शराब माफियाओं से डरे नहीं इसलिए उनकी हत्या हो गयी वरना सैकड़ों लोगों के खेतों का इस्तेमाल ये माफिया करते है और कोई डर से बोल नहीं पाता। माफिया लोग गाँव के बगल के ही एक टोले में रहते है और तीन चार साल में ही झोपडी से महल बना लिए है। आरोप है कि कमाई का एक हिस्सा पुलिस को आज तक जाता है।

स्थानीय लोग बताते है कि माफियाओं के लिए कोई एक सड़क नहीं है जिसका वे इस्तेमाल शराब को ढोने में करते है, बल्कि वे स्थानीय पुलिस के लाइन मिले हुए खेतों का इस्तेमाल सड़क के रूप में करते है। वैसे ज्यादातर कारोबारी कही न कही से दरियापुर के जनता चौक से होकर जरूर गुजरते है, जिनका सबसे बड़ा व्यावधान वहां लगा सीसीटीवी था, जो अब लंबे समय से ख़राब पड़ा हुआ है।

घटना के 12 घंटे बाद पुलिस गाँव में तब आई जब शहीद की श्रधांजलि देने उसके अधिकारी गोरखपुर से गाँव में पहुँच गये। यही कारण है की पुलिस के प्रति भी आक्रोश कम नहीं है। संग्रामपुर थाना प्रभारी के गालों में एयर फोर्स के एक अधिकारी का थप्पड़ भी चर्चे में है। बताया गया की पुलिस की लापरवाही को लेकर ऑफिसर आक्रोशित हो गया था।    

 

Tags:

About The Author

Latest News

विपीन अग्रवाल व पत्रकार हत्या मामले के कई अनछुए पहलुओं पर जांच करेंगे एसपी कुमार आशिष विपीन अग्रवाल व पत्रकार हत्या मामले के कई अनछुए पहलुओं पर जांच करेंगे एसपी कुमार आशिष
अभिनव धीमान के पर्वेक्षण टिप्पणी पर अगर भरोसा करें तो विपिन अग्रवाल हत्याकांड में कुल- 15 लोगों के विरुद्ध घटना...
जिला बार एसोसिएशन चुनाव को लेकर प्रत्याशियों ने दाखिल किया पर्चा, किंग मेकर्स पर टीकी निगाहें
CHAMPARAN के सबसे लंबे युवक के शानदार INTERVIEW @BORDER NEWS MIRROR के साथ || BNM TV | BNM TV ll
BJP संसद RAVI KISHAN बोले- UP में सब बा...SOCIAL MEDIA में हो रहा VIRAL
पुलिसिया छापेमारी से शराब कारोबारी, अपराधियों व भुमाफियायों में खौफ #IPSKUMARASHISH, EASTCHAMPARAN,
बीएनएम इम्पैक्ट: पुलिस लाइन के वायरल ऑडियो मामले में मुंशी हुआ निलंबित और सार्जेंट से पूछा गया स्पष्टीकरण
Vice President greets people on Lohri

Epaper

मौसम

NEW DELHI WEATHER

राशिफल

Live Cricket