previous arrow
next arrow
Slider
Spread the love
Home State Bihar 'वैश्विक शांति एवं सतत् विकास सम्मेलन 2021' का हुआ आयोजन

‘वैश्विक शांति एवं सतत् विकास सम्मेलन 2021’ का हुआ आयोजन

Spread the love
मोतिहारी। महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय मोतिहारी (MAHATMA GANDHI CENTRAL UNIVERSITY MOTIHARI) , बिहार, विट्टी गाॅशिप एसोसिएशन तथा भारतीय शोध फाउंडेशन के संयुक्त शैक्षणिक तत्वावधान में, ऑनलाइन ‘वैश्विक शांति एवं सतत् विकास सम्मेलन 2021’ आयोजित किया।  शिखर सम्मेलन का विषय संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्धारित  17 सतत विकास लक्ष्यों के बारे में युवाओं को शिक्षित करना है। सतत् भविष्य के बेहतर परिणाम तथा पर्यावरण सुरक्षा के लिए यह अंतरराष्ट्रीय पहल सतत्/स्थिरता के विभिन्न पहलुओं जिसमें सामाजिक आयाम, सतत आर्थिक, तथा पर्यावरण सुरक्षा को विशेष रुप से समाहित किया। प्रस्तुत शिखर सम्मेलन  में महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय मोतिहारी,  बिहार के कुलपति (VICE CHANCELLOR) प्रोफेसर संजीव कुमार शर्मा (PROF.SANJIV KUMAR SHARMA) मुख्य अतिथि रहे तथा अपने बीज वक्तव्य में उन्होंने जलवायु परिवर्तन पर अपनी चिंता जाहिर की । जिसमें उन्होंने ने बताया कि इस प्रकार के परिवर्तन मानव के भविष्य के लिए ठीक नहीं है। कुलपति जी इस संदर्भ में दूरदर्शी होने जिसमें सादगी और समेकित जीवन की तरफ लौटने की उम्मीद की। साथ में अच्छे भविष्य की कामना भी की। वक्ता के रूप में मैसाचुसेट्स विश्वविद्यालय के फैकल्टी सदस्य डा. उदयकांत झा ने गरीबी के आयामों को बताया। गरीबी दुनिया के विभिन्न देशों में विभिन्न रूपों में है आगे बताया कि दुनिया के 9% से अधिक लोग गरीबी रेखा के रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं। तथा गरीबी से संबंधित अनेक आंकड़े भी सामने रखा।
अगले वक्ता के तौर पर  इलेक्ट्रॉनिक व इंस्ट्रूमेंट विभाग के सह आचार्य डा. मनप्रीत सिंह मन्ना ने कहा कि राष्ट्र संघ के लक्ष्य  को मानवता से ही प्राप्त किए जा सकता हैं। उन्होंने शिक्षण संस्थाओं से कहा कि कि वह सिर्फ डिग्री नहीं ज्ञान भी दें। उन्होंने कहा कि किसी लक्ष्य को प्राप्त करने के साथ हमें खुशी और शांति भी प्राप्त करने की जरूरत है। 
अगले वक्ता के तौर पर कनाडा के वित्तीय परामर्शदाता डा.रिचर्ड ने बैंकिंग के विषय में बताया कि हर कोई फायदा चाहता है इसलिए दुनिया में समस्याएं तैयार हुई हैं। उन्होंने ने कहा कि हम क्या हैं? यह हमें समझने की जरूरत है।
अगले वक्ता के तौर पर शमा हुसैन ने बताया कि सतत विकास लक्ष्य एक आंतरिक  निर्माण क्रिया के माध्यम से निर्माण एवं संरचना कर रहा है। गरीबी प्राकृतिक नहीं है बल्कि यह व्यक्ति निर्मित है तो इसे व्यक्ति द्वारा समाप्त किया जाना चाहिए। अगले वक्ता के तौर पर मेडीकैप विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुनील सोमानी ने बताया कि हम गरीबी और उसके विभिन्न आयामों को कम करना चाहते हैं । उन्होंने कहा कि आगामी 10 से 15 वर्षों में लक्ष्य को प्राप्त किए जाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि सतत विकास शांति के बिना तथा शांति सतत विकास के बिना संभव नहीं है साथ में विश्व शांति बनाए रखने का भी आह्वान किया। अगले वक्ता के तौर के पर  फ्लोरिडा स्टेट विश्वविद्यालय यूएस के वैज्ञानिक डा. साऊजी गोपाल कृष्णपिल्लई ने बताया कि 736 मिलियन से अधिक लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं जो कि दुनिया की 10% आबादी है । शिक्षा व स्वास्थ्य की कमी को भी गरीबी रेखा गरीबी के रूप में व्याख्यायित करते हुए उन्होंने कहा कि गरीब और गरीब होता जा रहा है। उन्होंने बताया कि टूरिज्म एक माध्यम हो सकता हो सकता है रोजगार तथा गरीबी खत्म करने में। गैर प्रशिक्षित लोग टूरिज्म में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं जिसमें इंडोनेशिया व थाईलैंड उदाहरण है। उन्होंने कहा कि हमें नई टूरिज्म टूरिज्म नीति की जरूरत  है। 
अगले वक्ता के तौर पर वरूण आदित्य फाउंडेशन की संस्थापक सुब्रता राजेंद्रन ने व्याख्या की कि कैसे गरीबी अपराध को जन्म देती है। शिखा शर्मा ने खाद्य पदार्थों के बारे में विस्तार से बताया। ग्रीस की शिक्षा एवं धर्म मामलों की वैश्विक शिक्षक रानिया ने स्वस्थ समस्या का राजनीति व अर्थ पर पड़ने वाले प्रभाव पर पड़ने वाले प्रभाव को बताया। यमन के असमानता, गरीबी व प्राकृतिक संसाधनों के विशेष संदर्भ में अपनी बातें रखी तथा अच्छे भविष्य की उम्मीद भी की । प्रस्तुत शिखर सम्मेलन 2021 वैश्विक संयोजक प्रो. असलम खान की देख रेख में संपन्न कराया गया। 
इस मौके पर महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के गांधी एवं शांति अध्ययन विभाग के सह आचार्य डा. जुगल किशोर दाधीच, सहायक आचार्य अभय विक्रम सिंह, वीरेंद्र कुमार गांधी, रिषभ, अजरुदीन बाबर रविंद्र  आदि लोग मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन वींसेंट थॉमस ने ने किया। अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन वीट्टी गाॅशिप की अंतराष्ट्रीय मामलों की अध्यक्ष डॉ सुप्रिया पाठक ने दिया इस मौके पर विभिन्न देशों के विद्वतजन तथा महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के शिक्षक तथा शोधार्थी बड़ी संख्या में मौजूद रहे।
Attachments area
previous arrow
next arrow
Slider

Most Popular

शराब माफियाओं ने किया पुलिस पर हमला, महिला की मौत से ग्रामीण आक्रोशित

सागर सूरज/ जितेश मोतिहारी/कोटवा। कोटवा थाना (Kotwa Police Station) क्षेत्र के एक गाँव में शराब को लेकर प्राप्त सूचना के बाद छापेमारी (Raid) करने गयी...

कोरोना जैसी महामारी के बीच राजनीति नहीं होनी चाहिए: उपेन्द्र कुशवाहा

पटना। बिहार विधानपरिषद सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने संजय जयसवाल के बयान पर बुधवार को पलटवार करते हुए कहा कि कोरोना...

‘मैं कटिहार हूं’ के सातवें एपिसोड को उप मुख्यमंत्री ने किया रिलीज

पटना/कटिहार। बिहार के उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद (DUPY CM TARKISHOR PRASAD) ने कटिहार (KATIHAR) दौरे के दूसरे दिन एक कार्यक्रम में जिले के धार्मिक,...

एसडीएम ने एनएच पर दुकान लगानेवालों का दुकान स्थान्तरित कराया

बगहा। बगहा नगर परिषद स्थित राष्ट्रीय पथ-727 पर ठेला या फुटपाथ पर दुकान लगाकर फल और सब्जी आदि बेचने वाले दुकानदारों को बगहा (BAGAHA)...

Covid-19 Update

India
2,236,207
Total active cases
Updated on April 21, 2021 9:18 pm