बिहार में लगातार हो रही बारिश से नदियां उफान पर, उत्तर बिहार के सीमांचल का हाल-बेहाल

पटना। सूबे में पिछले तीन दिनों से रुक-रुककर लगातार हो रही बारिश से सभी नदियों के जलस्तर में वृद्धि हुई है। इससे बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए हैं। खासकर उत्तर बिहार के सीमांचल क्षेत्र के जिले ज्यादा प्रभावित हैं।पूर्णिया के कई गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है।

flood water entred highway in araria dis._pic_818

अररिया में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-327ई के डायवर्सन पर दो फीट से ऊपर पानी बह रहा है। लोग इन क्षेत्रों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित कर राहत दिए जाने और कम्युनिटी किचन शुरू कराने की अपील सरकार से कर रहे हैं।

पूर्णिया के अमौर में कनकई नदी के बढ़ते जलस्तर के साथ ही गांवों में पानी घुस चुका है। कई लोग अब भी घरों में फंसे हुए है तो कई लोग गांव से बाहर पुल पर शरण ले रहे हैं। लोगों के सामने अब खाने पीने की आफत आ गयी है।

कनकई नदी के उफान से प्रभावित नागरा टोली, सिमलवारी टोला, बाभनडोभ, ज्ञानडोभ, हरिपुर, खारीमहीन गांव, हफनिया, तालबारी, चौका डहुआबाड़ी, तालबारी महादिलत टोला, सुरजापुर जैसे दर्जनों गांव में पानी घुस गया है। कुछ लोग पैठान टोली पुल में शरण लिए हुए है।

प्रशासनिक व्यवस्था नदारद

प्रशासन की ओर से अबतक कोई व्यवस्था नहीं हुई है। बीती रात से ही सिमलवारी नगरा टोली में चार परिवार पानी में फंसा है। ना एनडीआरफ टीम और ना ही एसडीआरफ की टीम ही है।

अमौर से ज्ञानडोभ जाने वाली सड़क के ऊपर तीन फिट पानी बह रहा है। सड़क के ऊपर से पानी बहने के कारण प्रखंड मुख्यालय से सम्पर्क भंग हो गया। लोगों कम्युनिटी किचन की मांग कर रहे हैं। क्षेत्र का जायज़ा लेने पहुंचे अमौर के पूर्व विधायक सबा ने अंचलाधिकारी से संपर्क कर अविलंब राहत सामग्री मुहैया करने की बात कही है।

प्रशासन की ओर से कोई ठोस व्यवस्था नहीं होने के कारण लोगों में आक्रोश भी काफी है। मुख्यमंत्री से अविलंब अमौर को बाढ़ प्रभावित घोषित कर राहत सामग्री मुहैया कराने की मांग की गई है।

अररिया में बाढ़ विकराल रूप लेता जा रहा है। जोकीहाट में लगातार दो दिनों से बारिश हो रही है। दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। एनएच 327 ई पर बोरिया डायवर्सन पर दो फिट पानी का बहाव हो रहा है। बड़े वाहनों का परिचालन ठप है।

बकरा नदी के जलस्तर में वृद्धि होने से पानी निचले इलाकों में प्रवेश कर गया है। इलाके की कई सड़कें डूब गयी हैं। बैरगाछी से उदाहाट को जोड़ने वाली सड़क धोबकट्टा बांध तुरकेली ध्वस्त हो गयी है जिससे यातायात पूरी तरह से बाधित हो गया है। फैटकी से बगडहरा को जोड़ने वाली सड़क का भी यही हाल है।

भागलपुर जिले में कोसी के कटाव से सहमे लोग

भागलपुर जिला अंतर्गत बिहपुर में बाढ़ से लोगों की परेशानी बढ़ी हुई है। हरिओ पंचायत के कोसी पार गांव कहारपुर के वार्ड नंबर 04 में कोसी का कटाव जारी है। तीन घर कटाव की भेंट चढ़ गए। मुखिया प्रतिनिधि सच्चिदानंद सिंह, पंसस अंजू देवी व वार्ड सचिव रविशंकर यादव ने बताया कि जगदीश रविदास, पिंटू रविदास और पंकज रविदास के घर कोसी में विलीन हो गये।

खरीक में कोसी का जलस्तर बढ़ने से तटीय इलाकों में कटाव की रफ्तार तेज हो गयी है। सिहकुंड और लोकमानपुर में भीषण कटाव शुरू हो गया है। कटाव की रफ्तार इतनी तेज है कि कई लोग अपने घरों को तोड़कर खुद हटा रहे हैं।

लोकमानपुर में फ्लड फाइटिंग से तात्कालिक काम किया जा रहा है जो कटाव रोकने के लिए पर्याप्त नहीं है। सिहकुंड में कटाव की विभीषिका से जूझ रहे लोगों को बचाने के लिए अब तक कोई मुकम्मल प्रयास नहीं किया गया है। सिहकुंड में आधा दर्जन घर कटाव के मुहाने पर हैं। ग्रामीणों का कहना है कि शिव कुंड में अब तक बचाव कार्य शुरू नहीं हो सका है।

 

 

About The Author

Post Comment

Comments

राशिफल

Live Cricket

Download Android App

Recent News

'वंदे मातरम' शब्द नहीं आजादी का मंत्र है, भारत फिर से बनेगा अखंड : गिरिराज सिंह    'वंदे मातरम' शब्द नहीं आजादी का मंत्र है, भारत फिर से बनेगा अखंड : गिरिराज सिंह  
बेगूसराय। आजादी के अमृत महोत्सव में केंद्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने रविवार को बेगूसराय में...
पेशी के लिए लाए गए सजायाफ्ता आनंद मोहन पहुंच गए घर, विरोधी दलों ने उठाएं सवाल
पूर्व क्रिकेटर रॉस टेलर का बड़ा खुलासा- राजस्थान रॉयल्स के मालिक ने उन्हें मारा था थप्पड़
नीतीश-तेजस्वी सरकार में सभी पार्टियों के लिए मंत्री पद की संख्या हुई तय, 16 अगस्त को लेंगे शपथ
तृणमूल सांसद ने सीबीआई व ईडी दफ्तर को सील करने की दी धमकी, वीडियो वायरल
स्वतंत्रता दिवस स्पेशल: देशभक्ति के जज्बे को सलाम करती फिल्में
मोतिहारी में छात्र का अपहरण, 20 लाख रूपए मांगी फिरौती

Epaper

मौसम

NEW DELHI WEATHER