मोतिहारी लक्ष्य हत्याकांड में पीड़ित के घर पहुंचे पूर्व सांसद आनंद मोहन बोले- मैं यहां परिजनों से मिलने आया हूं, राजनीति करने नहीं

मोतिहारी लक्ष्य हत्याकांड में पीड़ित के घर पहुंचे पूर्व सांसद आनंद मोहन बोले- मैं यहां परिजनों से मिलने आया हूं, राजनीति करने नहीं

Reported By P.K. Mishra
Updated By P.K. Mishra
On
पूर्व सांसद आनंद मोहन लक्ष्य के घर फेनहारा थाना क्षेत्र के मनकरवा पहुंचे। जिसकी मधुबन थाना क्षेत्र के कृष्णा नगर पूल के पास अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस दौरान उसके पिता बसंत सिंह से मुलाकात की, घटना के बारे में जानकारी ली, घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि जिसने भी इस घटना को अंजाम दिया है वह बक्सा नहीं जाएगा। बोले इस छोटे से बच्चे से किसी का क्या दुश्मनी हो सकती है कि इस तरह इतनी बड़ी सजा देगा

पूर्व सांसद आनंद मोहन लक्ष्य के घर फेनहारा थाना क्षेत्र के मनकरवा पहुंचे। जिसकी मधुबन थाना क्षेत्र के कृष्णा नगर पूल के पास अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस दौरान उसके पिता बसंत सिंह से मुलाकात की, घटना के बारे में जानकारी ली, घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि जिसने भी इस घटना को अंजाम दिया है वह बक्सा नहीं जाएगा। बोले इस छोटे से बच्चे से किसी का क्या दुश्मनी हो सकती है कि इस तरह इतनी बड़ी सजा देगा। इस घटना को लेकर हमारी मोतिहारी के युवा एसपी कांतेश कुमार मिश्रा से बात हुई है। उन्होंने बताया की जल्द ही केश का खुलासा कर लिया जाएगा।

जल्द गिरफ्तार होंगे अपराधी

आनंद मोहन ने कह कि लक्ष्य की हत्या रहस्य बन गई है। कई बिंदु पर अनुसंधान जारी है। परिजन भी कुछ नहीं बता रहे हैं। इसका परिणाम है कि केस अज्ञात के विरुद्ध किया गया है। पुलिस को छूट मिली है वह अपने जांच का दायरा जितना चाहे बढ़ा सकते हैं। नेम्ड होने के बाद उनकी हाथ बंध जाता है। उन्हे एक सरकल में काम करना होता है। अज्ञात के विरुद्ध केश होता है तो पुलिस के हाथ खुले होते हैं। पुलिस के अधिकारियों ने भरोसा दिलाया है कि तीन से चार दिन में हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

मैं यहां कोई राजनीत करने नहीं आया

IMG_20230823_134105

बढ़ते क्राइम पर कहा कि मैं एक मासूम की हत्या के बाद उनके परिजन से मिलने आया हूं। यहां मुझे कोई राजनीत नहीं करनी है। जहां तक बात क्राइम की रही तो कोई ऐसा दौर नहीं है जिसमे हत्याएं नहीं हुई हैं। हत्या के कारण अनेक है। पुलिस अगर चुस्ती से काम करे तो बहुत सारी घटनाओं को रोका जा सकता है। हत्या के पीछे कई वजह होती है। सब को रोकना संभव नहीं है। हत्या के बाद पुलिस का काम है कि हत्यारे की गिरफ्तारी करें, कुछ पार्टी जब एलाइंस में रहती हैं तो कहती राम राज है। जब एलाइंस टूट जाता है तब सड़क पर घूम कर कहती है जंगल राज आ गया।

Post Comment

Comments

राशिफल

Live Cricket

Recent News

Epaper

मौसम

NEW DELHI WEATHER